Zindagi Se Badi Saza Hi Nahi Lyrics
By Idris Beg / Leave a Comment / Ghazals
Zindagi Se Badi Saza Hi Nahin By Ustaad Shujaat Hussain Khan at Jashn-e-Rekhta Lyrics

Poet: Krishna Bihari ‘Noor’

Zindagi se badi saza hi nahin
aur kya jurm hai pata hi nahi

ज़िंदगी से बड़ी सज़ा ही नहीं
और क्या जुर्म है पता ही नहीं

 

Itne hisson me bat gaya hoon main
Mere hisse mein kuch raha hi nahin

इतने हिस्सों में बंट गया हूँ मैं
मेरे हिस्से में कुछ बचा ही नहीं

 

Chaahen sone ke frame mein jad do
Aayina jhoot bolta hi nahi

चाहे सोने के फ्रेम में जड़ दो
आईना झूठ बोलता ही नहीं

 

Dhan k haathon me bik gaye hain sabhi
Ab kisi jurm ki saza hi nahin

धन के हाथों बिके हैं सब क़ानून
अब किसी जुर्म की सज़ा ही नहीं

 

Sach ghate ya badhe to sach na rahe
Jhoot ki koi Intaha hi nahin

सच घटे या बढ़े तो सच ना रहे
झूठ की कोई इँतहा ही नहीं
——–&——–

 

The Original Ghazal ‘ Zindagi se badi saza hi nahi ‘ as Cited by Krishna Bihari ‘NOOR’ Himself:

 

अपने दिल की किसी हसरत का पता देते हैं
मेरे बारे में जो अफ़वाह उड़ा देते हैं

Apne dil ki kisi hasrat ka pata dete hain
Mere baare mein jo afwaah uda dete hain

 

ज़िंदगी से बड़ी सज़ा ही नहीं
और क्या जुर्म है पता ही नहीं

Zindagi se badi saza hi nahin
Aur kya jurm hai pata hi nahin

 

इतने हिस्सों में बंट गया हूँ मैं
मेरे हिस्से में कुछ बचा ही नहीं

Itne hisson me bant gaya hun main
Mere hisse me kuchh bacha hi nahin

 

सच घटे या बढ़े तो सच ना रहे
झूठ की कोई इँतहा ही नहीं

Sach ghate ya badhe to sach na rahe
Jhooth ki koi intaha hi nahin

 

धन के हाथों बिके हैं सब क़ानून
अब किसी जुर्म की सज़ा ही नहीं

Dhan ke hathon bike hain sab qanoon
Ab kisi jurm ki saza hi nahin

 

चाहे सोने के फ्रेम में जड़ दो
आईना झूठ बोलता ही नहीं

chaahen sone ke frame mein jad do
Aayina jhooth bolta hi nahin

 

ज़िंदगी मौत तेरी मंज़िल है
दूसरा कोई रास्ता ही नहीं

Zindagi! maut teri manzil hai
Doosra koi raasta hi nahin

 

जिसके कारण फ़साद होते हैं
उसका कोई अता-पता ही नहीं

Jiske kaaran fasaad hote hain
Uska koi ata-pata hi nahin

 

कैसे अवतार कैसे पैग़मबर
ऐसा लगता है अब ख़ुदा ही नहीं

Kaise avtaar kaise paighambar
Aisa lagta hai ab khuda hi nahin

 

ज़िंदगी की तल्ख़ियाँ अब कौन सी मंज़िला पाएं
इससे अंदाज़ा लगा लो ज़हर महँगा हो गया

Zindagi ki talkhiyan ab kaun si manzil paayen
Isse andaaza laga lo zahr mahnga ho gaya

 

ज़िंदगी अब बता कहाँ जाएँ
ज़हर बाज़ार में मिला ही नहीं

Zindagi ab bata kahan jaayen
Zahr baazar mein mila hi nahin

 

अपनी रचनाओं में वो ज़िन्दा है
‘नूर’ संसार से गया ही नहीं

Apni rachnaon mein wo zinda hai
‘Noor’ sansaar se gaya hi nahin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.