Aaya Kalam-e-Haq Me Rafaana Naat Lyrics

 

 

Naat Khwan: Habibullah Faizi Madhupuri

 

आया कलामें ह़क़ में रफ़ाना,
रिफ़अ़त ही कुछ ऐसी है।

जिसने मिटाना चाहा मिटा खुद
अज़मत ही कुछ ऐसी है।!

Aaya Kalam-e-Haq Me Rafaana
Rif’aat Hee Kuchh Aisi Hai.

Jisne Mitana Chaha Mita Khud
Azmat Hee Kuchh Aisi Hai

 

झूमें न झूमें आपकी मर्ज़ी
नाते रिसालत को सुनकर।

झूम रहे हैं सारे मलायक
के मिदहत ही कुछ ऐसी है।!

Jhoome Na Jhoome Aapki Marzi
Naate Risalat Ko Sunkar

Jhoom Rahe Hain Saarey Malayak
Ke Midhat Hee Kuchh Aisi Hai

 

मैंने ये पूछा चांद से बोलो
कैसे हुए तुम दो टुकड़े।

तो बोला क़मर कि अंगुस्ते नबी
की कुदरत ही कुछ ऐसी है।!

Maine Poochha Chand Se Bolo
Kaise Huye Tum Do Tukde

To Bola Qamar Ki Angustey Nabi
Ki Qudrat Hee Kuchh Aisi Hai

 

बोले उमर मैं क़त्ले नबी के
वास्ते निकला था लेकिन।

देख के ही ख़ुद क़त्ल हुआ मैं
सूरत ही कुछ ऐसी है।!

Bole Umar Mai Qatle Nabi Ke
Waste Nikla Tha Lekin

Dekh Ke Khud Qatl Hua Mai
Soorat Hee Kuchh Aisi Hai

 

नाते नबी के शुगल ने फ़ैज़ी
को इतना अनमोल किया।

अरे कोई नहीं जो इसको खरीदे
कीमत ही कुछ ऐसी है।!

Naate Nabi Ke Shugl Ne faizi
Ko Itna Anmol Kiya

Arey Koi Nahin Jo Isko Khareede
Keemat Hee Khuchh Aisi Hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.