Aye Rozadaron Khak Urao Lyrics

 

 

ऐ रोज़ादारों खाक उड़ाओ

 

Haye Ali ! Haye Ali ! Haye Ali ! Haye Ali !

Haye Ali ! Haye Ali ! Haye Ali ! Haye Ali !

 

Aye Rozadron Khaak Uraao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

Is Din Ko Bhi Ashoor Banao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Hassanin Se Karti Thin Buka Zainab-E-Kubra

Taza Tha Abhi Madar-E-Dilgeer Ka Sadma

Ab Dagh Yateemi Ka Uthao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Ik Simt Se Taboot Uthayenge Farishte

Aur Mahw-E-Buka Doosri Janib Se Hain Bête

Salman-O-Abuzar Ko Bulao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Ye Gham Bine Muljim Ne Diya Aale Nabi Ko

Sajde Me Kiya Qatl Mere Baba Ali Ko

Ae Logo Mera Dard Batao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Baba Ne Dame Rukhsate Akhir Ye Kaha Tha

Abbas Hai Zaamin Meri Zainab Ki Rida Ka

Ghazi Ko Ye Ehsaas Dilao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Taboot Mera Naaqe Pe Kar Dena Rawana

Ruk Jaye Jahan Naaqa Wahin Qabr Banana

Hai Waqt Wasiyat Ko Nibhao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Ab Kon Bhala Saaya-E-Deewar Banega

Bewaaon Yateemon Ka Madadgar Banega

Koofe Ke Ghareebon Ko Batao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Ikkiswi (21) Ramzan Qayamat Ka Tha Manzar

Thi Zainab-E-Muztar Ki Sada Mesum-O-Mazhar

Ab Kaise Jiyun koi Batao

Taboot Uth Raha Hai Janab-E-Ameer Ka

 

Recited By: Mesum Abbas

Poet & Composer: Mazhar Abidi

 

Aye Rozadaron Khak Urao Lyrics In Hindi
हाय अली! हाय अली! हाय अली! हाय अली!

हाय अली! हाय अली! हाय अली! हाय अली!

 

ऐ रोज़ादारों खाक उड़ाओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

इस दिन को भी आशूर बनाओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

 

हसनैन से करती थीं बुका ज़ैनब-ए-कुबरा

ताज़ा था अभी मादरे दिलगीर का सदमा

अब दाग़ यतीमीं का उठाओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

 

इक सिम्त से ताबूत उठाएंगे फ़रिश्ते

और महव-ए-बुका दूसरी जानिब से हैं बेटे

सलमान-ओ-अबूज़र को बुलाओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

 

ये ग़म भी बिने मुलजिम ने दिया आले नबी को

सजदे में किया क़त्ल मेरे बाबा अली को

ऐ लोगों मेरा दर्द बटाओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

 

बाबा ने दम-ए-रुख़स्ते आख़िर ये कहा था

अब्बास है ज़ामिन मेरी ज़ैनब की रिदा का

ग़ाज़ी को ये एहसास दिलाओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

 

ताबूत मेरा नाक़े पे कर देना रवाना

रुक जाए जहां नाक़ा वहीं क़ब्र बनाना

है वक़्त वसीयत को निभाओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

 

अब कौन भला साया-ए-दीवार बनेगा

बेवाओं यतीमों का मददगार बनेगा

कूफ़े के ग़रीबों को बताओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

 

इक्कीसवीं (21) रमज़ान क़यामत का था मन्ज़र

थीं ज़ैनब-ए-मुज़तर कि सदा मीसम-ओ-मज़हर

अब कैसे जियूं कोई बताओ

ताबूत उठ रहा है जनाबे अमीर का

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.