Chamakne Laga Sunniyat Ka Sitaara Lyrics

 

Shayar: Habibullah Faizi Madhupuri

Naat Kawan: Habibullah Faizi Madhupuri

 

चमकने लगा सुन्नियत का सितारा

बरेली में अहमद रज़ा जब से आये

Chamakne Laga Sunniyat Ka Sitaara
Bareily Mein Ahmad Raza Jabse aaye

 

हुआ सर्द फितनों का हर इक शरारा
बरेली में अहमद रज़ा जब से आये

Huwa Sard Fitno.n Ka Har Ik Shara’ra
Bareily Mein Ahmad Raza Jabse aaye

 

उधर कुफ्र की सारी तन्ज़ीमें शामिल
इधर अहले सुन्नत अकेले मक़ाबिल

Udhar Kufr Ki Saari Tanzeemien Shamil
Idhar Ahle Sunnat akele maqabill

 

मगर सुन्नियों ने ही मैदान मारा
बरेली में अहमद रज़ा जब से आये

Magar Sunniyoun ne hi maidaan maara
Bareily Mein Ahmad Raza Jabse aaye

 

फ़ताबे में इतनी हदीसें सजाईं
कि जिस पे करे फ़ख़र् रुहे बुखारी

Fataawe mein itni Hadeesen sajaayi
Ke Jiss Pe Karen Faqr Rooh-E-Bukhaari

 

बरेली बना सुन्नियों का बुखारा
बरेली में अहमद रज़ा जब से आये

Bareily Bana Sunniyoun Ka BuKhaara
Bareily Mein Ahmad Raza Jabse aaye

 

गो उर्दू में पहले भी थी नातगोई
मगर क़ाबिले तज़किरा थी न कोई

Go Urdu Mein Pehle Bhi Thi Naat Goee
Magar Qaabile Tazkira Thi Na koyi

 

फ़लक छू गया शायरी का मिनारा
बरेली में अहमद रज़ा जब से आये

Falak Choo Gaya Shayari Ka Minaara
Bareily Mein Ahmad Raza Jabse aaye

 

हज़ारों उलूमें की सीने में मगफ़ीं
फ़साना नहीं ये हक़ीक़त है फ़ैज़ी

Hazaron Uloomein Ki Seeney Me Magfi
Fasana Nahi Ye Haqiqat Hai Faizi

 

मगर ये हक़ीक़त हुई आशिकारा
बरेली में अहमद रज़ा जब से आये

Magar Ye Haqiqat Hui Aashikara
Bareily Mein Ahmad Raza Jabse aaye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.