Ghous Ka Deewana Qawwali Lyrics

 

Ghous Ka Deewana Qawwali Lyrics In English

मेरा इश्क़ सूफियाना

Singer: Saleem Javed
Writer: Saleem Javed

Ghous Ka Deewana
हिन्दी के लिए यहां टच करें
Mera Ishq Hai, Mera Ishq Hai
Mera Ishq Hai, Mera Ishq Hai

 

Mera Ishq Sufiyana, Mera Ishq Sufiyana
Mujhe Hosh Me Na Lana Jaam e Qadri Pilana

Mera Maslak Hai Alag, Meri Manzil Hai Alag
Mein Hun Duniya Se Begana, Begana, Begana

 

Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana

 

Ye Marhala Bhi Dekhna Mahshar Me Aayega
Rizwa.n Ki Kya Majaal Jo Rok Payega

Ye Qoul e Ghous e Pak Hai! Mera Har Ik Mureed
Daman Ko Mere Thaam Ke Jannat Me Jayega

 

Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana ….

 

Unka Wazifa Padhke Jo Ghar Se Nikal Gaya
Yaaro Mein Haadson Ke Asar Se Nikal Gaya
Toofan Kar Raha Tha Dubonay Ki Sazishein
Ya Ghous Kah Ke Mein To Bhanwar Nikal Gaya

 

Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana ….

 

Apna Ghareeb-Khana Sajaunga Shaan Se
Daawat Me Sunniyon Ko Bulaunga Shaan Se
Mujhko Kisi Ki Tanz-Nigari Se Kya Gharaz
Mein Gyaarvi Sharif Manaunga Shaan Se

 

Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana ….

 

Duniya Ke Faislon Ko Kabhi Maanta Nahin
Mein Baadshah e Waqt Ko Gar Jaanta Nahin
Peeran e Peer Se Mujhe Niswat Hai Is Qadar
Unke Siwa Kisi Ko Bhi Pahchanta Nahin

 

Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana ….

 

Himmat Agar Hai Tum Me Mera Ishq Kam Karo
Ya Ghous Hi Kahunga jo Chahen Sitam Karo
Chhorunga Na Mein Ghous Ka Daman Kisi Tarha
Haathon Ko Mere Kaat Do Ya Sar Qalam Karo

 

Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana ….

 

Nisbat Hai Mujhko Ghous e Zama Dastgeer Se
Waliyon Ke Badshah Se Peeran-e-Peer Se
Aayega Marhala Jo Sawal-o-Jawab Ka
Kahunga Saaf Qabr Me Munkar-Nakeer Se

 

Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana Mein Hun Ghous Ka Diwana
Mujhe Chhede Na Zamana ….

 

 

 

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना | Qawwali lyrics In Hindi
By sufilryics / Leave a Comment / Qawwali Lyrics
मैं हूँ ग़ौस का दीवाना | Qawwali lyrics In Hindi

Qawwal: Saleem Javed

मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
English Lyrics
मेरा इश्क़ है, मेरा इश्क़ है
मेरा इश्क़ है, मेरा इश्क़ है

 

मेरा इश्क़ सूफ़ियाना, मेरा इश्क़ सूफ़ियाना
मुझे होश में ना लाना जाम-ए-क़ादिरी पिलाना

मेरा मसलक है अलग, मेरी मंज़िल है अलग
मैं हूं दुनिया से बेगाना, बेगाना, बेगाना

 

मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना

 

ये मरहला भी देखना महशर में आयेगा
रिजवां की क्या मजाल जो रोक पायेगा

ये क़ौल-ए-ग़ौस-ए-पाक है! मेरा हर इक मुरीद
दामन को मेरे थाम के जन्नत में जायेगा

 

मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना ….

 

उनका वज़ीफ़ा पढ़के जो घर से निकल गया
यारो मैं हादसों के असर से निकल गया
तूफ़ान कर रहा था डुबोने की साजिशें
या ग़ौस कह के मैं तो भंवर से निकल गया

 

मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना ….

 

अपना ग़रीबखाना सजाऊंगा शान से
दावत में सुन्नियों को बुलाऊंगा शान से
मुझको किसी की तंजनिगारी से क्या ग़रज़
मैं ग्यारहवीं शरीफ़ मनाऊंगा शान से

 

मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना ….

 

दुनिया के फ़ैसलों को कभी मानता नहीं
मैं बादशाह-ए-वक़्त को गर जानता नहीं
पीराने पीर से मुझे निस्बत है इस क़दर
उनके सिवा किसी को भी पहचानता नहीं

 

मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना ….

 

हिम्मत अगर है तुम में मेरा इश्क़ कम करो
या ग़ौस ही कहूंगा जो चाहें सितम करो
छोड़ूँगा ना मैं ग़ौस का दामन किसी तरह
हाथों को मेरे काट दो या सर क़लम करो

 

मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ ग़ौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना ….

 

निस्बत है मुझको ग़ौस-ए-ज़मा दस्तगीर से
वलियों के बादशाह से पीराने पीर से
आयेगा मरहला जो सवाल-ओ-जबाव का
कहूंगा साफ़ क़ब्र में मुनकर-नकीर से

 

मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ गौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना मैं हूँ गौस का दीवाना
मुझे छेड़े न ज़माना ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.