Hua Jata Hai Rukhsat Maahe-Ramzan Ya Rasoolallah Lyrics

 

 

Shayar: Muhammad Ilyas Attar Qadri | Naat e Paak

Naat Khwan: Mahmood Attari, Hafiz Muhammad Rashid, Owais Raza Qadri.

 

हुआ जाता है रुख़्सत माहे रमज़ां या रसूलल्लाह

रहा अब चन्द घड़ियों का ये मेहमां या रसूलल्लाह

Hua Jata Hai Rukhsat Maahe-Ramza(N) Ya Rasoolallah

Raha Ab Chund Ghadiyon Ka Ye Mehma(N) Ya Rasoolallah

 

 

ख़ुशी की लहर दौड़ी हर तरफ़, रमज़ान जब आया

है अब रन्जीदा रन्जीदा मुसल्मां या रसूलल्लाह

Khushi Ki Lahar Doudi Har Taraf, Ramzan Jab Aaya

Hai Ab Ranjeeda Ranjeeda Musalma.n Ya Rasoolallah

 

 

मसर्रत ही मसर्रत और ख़ुशी ही थी ख़ुशी जिस दम

नज़र आया हिलाले माहे रमज़ां या रसूलल्लाह

Masaarat He Masrrat Aur Khushi He Thi Khushi Jis Dum

Nazar Aaya Hilal-E-Maahe-Ramza.n Ya Rasoolallah

 

 

शहा ! अब ग़म के मारे ख़ून के आंसू बहाते हैं

चला तड़पा के हाए ! माहे-रमज़ां या रसूलल्लाह

Shaha ! Ab Gham Ke Mare Khoon Ke Aansu Bahate Hein

Chala Tadpa Ke Haye ! Maahe Ramza.n Ya Rasoolallah

 

 

चला अब जल्द ये रमज़ां सताईस(27) आ गई तारीख़

फ़क़त दो दिन का अब रमज़ां है मेहमां या रसूलल्लाह

Chala Ab Jald Ye Ramza.n Sata’ees(27) Aa Gaai Tareekh

Faqat Do Din Ka Ab Ramza.n Hai Mehma.n Ya Rasoolallah

 

 

फ़ज़ाएँ नूर बरसातीं, हवाएँ मुस्कुराती थीं

समां अब हो गया हर सम्त वीरां या रसूलल्लाह

Fazaein Noor Barsati, Hawaein Muskurati Thi

Sama Ab Ho Gaya Har Samt Weera.n Ya Rasoolallah

 

 

रियाज़त कुछ न की हम ने इबादत कुछ न की हम ने

रहे बस हर घड़ी मश्ग़ूले-इस्यां या रसूलल्लाह

Riyazat Khuchh Na Ki Ham Ne Ibadat Kuchh Na Ki Ham Ne

Rahe Bas Har Ghadi Mashghool-E-Isya.n Ya Rasoolallah

 

 

मैं हाए ! जी चुराता ही रहा रब की इबादत से

गुज़ारा ग़फ़लतों में सारा रमज़ां या रसूलल्लाह

Mein Haye ! Ji Churata He Raha Rab Ki Ibadat Se

Guzara Ghaflaton Me Sara Ramza.n Ya Rasoolallah

 

 

जुदाई की घड़ी जां-सोज़ है उश्शाक़े-रमज़ां पर

चला इन को रुला कर माहे-रमज़ां या रसूलल्लाह

Judaai Ki Ghadi Jaan-Soz Hai Ushshaq-E-Ramza.n Ya Rasoolallah

Chala in ko rula kar maahe-ramza.n ya rasoolallah

 

 

महे-रमज़ां की रुख़्सत जाने आशिक़ पर क़ियामत है

गदा तेरे हैं हैरानो-परेशां या रसूलल्लाह

Mahe-Ramzan Ki Rukhsat Jaane Aashiq Par Qiyamat Hai

Gada Tere Hein Hairan-o-Paresha.n Ya Rasoolallah

 

 

ख़ुदा के नेक बन्दे नेकियों में लग गए लेकिन

गुनह करता रहा अत्तारे नादां या रसूलल्लाह

Khuda Ke Nek Bande Nekiyon Me Lag Gaye Lekin

Gunah Karta Raha Attar-E-Nada.n Ya Rasoolallah

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.