Madina arshe aazam par nahi rooye zami par hai Lyrics

 

 

Shayar:Ajmal Sultanpuri | Naat e Paak

Hindi And english naat Lyrics

 

मदीना अर्शे आज़म पर नहीं रूए ज़मीं पर है
मग़र उस सरज़मीं को फ़ौक़ियत अर्शे बरीं पर है

Madina arshe aazam par nahi roo-e-zami par hai
Magar us sar zami ko fouqi’at arshe bari(n) par hai

 

 

शहे मेंराज का नक्शे क़दम अर्शे बरीं पर है
अब उस मिट्टी का क्या कहना सरापा जिस ज़मीं पर है

Shahe meraj ka nakshe qadam arshe bari(n) par hai
Ab us mitti ka kya kahna sarapa jis zami par hai

 

 

मुहम्मद मुस्तफ़ा सल्ले अला का तलवए अक़दस
शबे मेराज सरदारे मलाइक की जबीं पर है

Mohammad mustafa salle ala ka talwa-e-aqdas
Shabe meraj sardaare malaik ki jabi(n) par hai

 

 

वहां से साहेबे मेराज तन्हा अर्श पर पहुंचे
जहां सोज़िश का ग़लबा शह परे रूहुल अमीं पर है

Waha se saahibe meraaj tanha arsh par pahu(n)che
Jaha sozish ka Ghalba shah parey roohul ami par hai

 

 

हदे इदराक़ से बाला है मेराजे शहे बतहा
मग़र उसकी सदाक़त अहले ईमाँ के यक़ीं पर है

hade idraaq se wala hai meraj-e-shahe but’ha
Magar uski sadaqat ahle imaa(n) ke yaki par hai

 

 

अग़र है मुन्किरे मेराज जिस्मानी तो ऐ ज़ाहिद
रियाकारी के सज्दों का निशां तेरी जबीं पर है

Agar hai munkire meraaj jismani to ae zaahid
Riyakaari ke sajdo(n) ka nisha teri jabi(n) par hai

 

 

शबे असरा उन्हीं के सर शफ़ाअत का बंधा सेहरा
गुनहगारों की बख्शिश रहमतुललिल आलमीं पर है

Shabe asra unhi ke sar shafa’at ka bandha sehra
Gunahgaaro ki bakhshish rahmattul’lil aalmi(n) par hai

 

 

मेरी जन्नत है अजमल वो जहां जन्नत के मालिक हों
यही जन्नत के मालिक हैं, मेरी जन्नत यहीं पर है

Meri jannat hai ajmal wo jaha.n, jannat ke maalik hon
Ye hi jannat ke maalik hain, meri jannat yahin par hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.