Madine Se Dil Kash Hawa Aa Rahi Hai Naat Lyrics

 

मदीने से दिल कश हवा आ रही है

Shayar: Moulana Kousar Amjadi Qabri | Naat e Paak

Naat Khwan: Sayyed Kaifi Ali, Muhammad Firoz Raza, Jamal Raza Qadri,

Hindi And English Naat Lyric

 

मदीने से दिल कश हवा आ रही है

दरे ख़्वाजा को ख़ूब महका रही है

Madine Se Dil Kash Hawa Aa Rahi Hai

Darey Khwaja Ko Khoob Mahka Rahi Hai

 

Hai Ajmer Me Bhi Madine Ka Jalwa

Wahi Se Yaha Roushani Aa Rahi Hai

 

Kashish Hai Ajab Tere Rouza Ki Khwaja

Jabine Aqidat Jhuki Jaa Rahi Hai

 

Shabo Roz Hoti Hai Kuraan Khwani

Kahin Naat E Sarwar Padi Ja Rahi Hai

 

Idhar Tara Gad Hai, Udhar Aana Sagar

Bahar Sumt Khilkat Khichi Ja Rahi Hai

 

Tere Rouza-E-Paak Ka Taaje Jarri(N)

Naseeme Jena Jis Se Takra Rahi Hai

 

Gharibon Ki Suf Me Hein Shahane Aalam

Yahan Sub Ki Jholi Bhari Jaa Rahi Hai

 

Tasdduq Me Hasnain Ke Mere Khwaja

Karam Ho Ki Naazuk Ghadi Aa Rahi Hai

 

Jo Haathon Me Hai, Mere Khwaja Ka Daman

Bala Sub Isi Se Tali Jaa Rahi Hai

 

Wo Rounak Hai Ajmer Me Allah Allah

Nigaahon Me Jannat Basi Jaa Rahi Hai

 

Musalma(N) Hein Khush Ne’aa-Mate Haaziri Se

Ruche Dev Par Murdaani Chhaa Rahi Hai

 

Hein Khwaja Ke Sub Aur Sub Ke Hein Khwaja

Ki Makhlooq Doudi Chali Aa Rahi Hai

 

 

Shabo Roa Barane Rahmat Ka Manzar

Sada Rahmaton Ki Ghata Chhaa Rahi Hai

 

Shahnshahe Hindusta(N) Fir Bula Lo

Judaai To Kousar Ko Tadpa Rahi Hai

 

है अजमेर में भी मदीने का जल्वा

वहीं से यहां रौशनी आ रही है

 

 

कशिश है अजब तेरे रौज़ा की ख़्वाजा

जबीने अक़ीदत झुकी जा रही है

 

 

शबो रोज़ होती है क़ुरआन ख़्वानी

कहीं नाते सरवर पढ़ी जा रही है

 

 

इधर तारा गढ़ है, उधर आना सागर

बहर सम्त ख़िलक़त खिंची जा रही है

 

 

तेरे रौज़ए पाक का ताजे जर्रीं

नसीमे जेना जिस से टकरा रही है

 

 

ग़रीबों की सफ़ में हैं शाहाने आ़लम

यहां सब की झोली भरी जा रही है

 

 

तसद्दुक़ में हसनैन के मेरे ख्वाज़ा

करम हो कि नाज़ुक घड़ी आ रही है

 

 

जो हाथों में है, मेरे ख़्वाजा का दामन

बला सब इसी से टली जा रही है

 

 

वो रौनक़ है अजमेर में अल्लाह अल्लाह

निगाहों में जन्नत बसी जा रही है

 

 

मुसल्मां हैं ख़ुश नेअ़मते हाज़िरी से

रुख़े देव पर मुर्दनी छा रही है

 

 

हैं ख़्वाजा के सब और सब के हैं ख्वाजा

कि मख़लूक़ दौड़ी चली आ रही है

 

 

शबो रोज़ बाराने रह़मत का मन्ज़र

सदा रह़मतों की घटा छा रही है

 

 

शहन्शाहे हिन्दुस्तां फिर बुला लो

जुदाई तो कौसर को तड़पा रही है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.