Mataa E Dee Ab Kaise Bachayen Ya Rasoolallah Naat Lyrics

मताऐ दीं अब कैसे बचायें या रसूलल्लाह

Shayar: Raaz Ilahabadi || Naat-E-Paak

मताऐ दीं अब कैसे बचायें या रसूलल्लाह

हमें घेरे हैं फिर काफ़िर घटायें या रसूलल्लाह

Mataa-E-Dee(N) Ab Kaise Bachayen Ya Rasoolallah

Hame Ghere Hein Fir Kaafir Ghataaye Ya Rasoolallah

 

 

अगर क़िसतत से तुमको देख पाएं या रसूलल्लाह

यह महरो माह भी क़ुरबान जायें या रसूलल्लाह

Agar Qismat Se Tumko Dekh Paayen Ya Rasoolallah

Yeh Mahro Maah Bhi Kurbaan Jaayen Ya Rasoolallah

 

 

हमारा एक सज्दा भी नहीं मक़्बूल हो सकता

नमाज़ों में जो तुमको भूल जायें या रसूलल्लाह

Hamara Ek Sajda Bhi Nahi Maqbool Ho Sakta

Namazon Me Jo Tumko Bhool Jaayen Ya Rasoolallah

 

 

मेरा ई़मान तो यह है यक़ीनन आप सुनते हैं

मेरे टूटे हुए दिल की सदायें या रसूलल्लाह

Mera Imaan To Yeh Hai Yakqinan Aap Sunte Hein

Mere Toote Huye Dil Ki Sadaayen Ya Rasoolallah

 

 

ग़मों की धूप में जलती है कब से ज़िन्दगी अपनी

कब आयेंगी मदीने से घटाएं या रसूलल्लाह

Ghamon Kid Hoop Me Jalti Kab Se Zindagi Apni

Kab Aayengi Madine Se Ghataen Ya Rasoolallah

 

 

सगे तैबा समझ कर ही पड़ा रहने दो तैबा में

कहां तक ठोकरें दर दर की खायें या रसूलल्लाह

Sage Taiba Samajh Kar He Pada Rahne Do Taiba Me

Kaha Tak Thokrein Dar Dar Ki Khaayen Ya Rasoolallah

 

 

मेरे छोटे से मुंह की एक बड़ी सी बात सुन लीजे

किसी दिन ख़्वाब में तशरीफ लायें या रसूलल्लाह

Mere Chhote Muh Ki Ek Badi Si Baat Sun Leejey

Kisi Din Khwaab Me Tashreef Laayen Ya Rasoolallah

 

 

मेरे मुर्शिद मदीने को चलें जो हाज़िरी देने

उन्हीं के साथ मुझको भी बुलायें या रसूलल्लाह

Mere Murshid Madine Ko Chale(N) Jo Haazri Dene

Unki Ke Saath Mujhko Bhi Bulaayen Ya Rasoolallah

 

 

हम ऐसे राज़ लाखों हों तो तुम से छुप नहीं सकते

हम अपना राज़ तुम से क्या छुपायें या रसूलल्लाह

Hum Aise Raaz Laakhon Ho To Tum Se Chhup Nahi Saktey

Hum Apna Raaz Tum Se Kya Chhupaayen Ya Rasoolallah

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.