Kyon Aake Ro Raha Hai Muhammad Ke Shahar Me Lyrics

 

क्यों आके रो रहा है मुह़म्मद के शहर में

Shayar: Raaz Ilahabadi | Naat-E-Paak

Naat Khwan: Saqlain Rashid

 

क्यों आके रो रहा है मुह़म्मद के शहर में

हर दर्द की दवा है मुह़म्मद के शहर में

Kyon Aake Ro Raha Hai Muhammad Ke Shahar Me

Har Dard Ki Dawa Hai Muhammad Ke Shahar Me

 

क़दमों ने उनके ख़ाक को कुन्दन बना दिया

मिट्टी भी कीमिया है मुह़म्मद के शहर में

Qadmon Ne Unke Khaak Ko Kundan Bana Diya

Mitti Bhi Keemiya Hai Muhammad Ke Shahar Me

 

Kyon Aake Ro Raha Hai Muhammad Ke Shahar Me Lyrics
Kyon Aake Ro Raha Hai Muhammad Ke Shahar Me Lyrics

सदक़ा लुटा रहा है खुदा उनके नाम का

सोना निकल रहा है मुह़म्मद के शह़र में

Sadqa Luta Raha Hai Khuda Unke Naam Ka

Sona Nikal Raha Hai Muhammad Ke Shahar Me

 

सब तो झुके हैं ख़ानए काबा के सामने

काबा झुका हुआ है मुह़म्मद के शहर में

Sab To Jhuke Hein Khaana-E-Kaaba Ke Saamne

Kaaba Jhuka Hua Hai Muhammad Ke Shahar Me

 

ऐ मौत अभी आके गले से लगा मुझे

मरना मैं चाहता हूं मुह़म्मद के शहर में

Ey Mout Abhi Aake Galey Se Laga Mujhe

Marna Mai Chahta Hun Muhammad Ke Shahar Me

 

ऐ राज़ गरचे हिन्द में मौजूद हूं मगर

दिल नात पढ़ रहा है मुह़म्मद के शहर में

Ey Raaz Garche Hind Me Moujood Hun Magar

Dil Naat Pad Raha Hai Muhammad Ke Shahar Me

 

Kyon Aake Ro Raha Hai Muhammad Ke Shahar Me Naat Lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.