Maut aaqa se mila de maza aa jaye lyrics

 

 

Maut aaqa se mila de maza aa jaye lyrics

मौत आक़ा से मिला दे तो मज़ा आ जाए

Naat khwan: Mohammad Ali Faizi

जां की दीवार गिरा दे तो मज़ा आ जाए
मौत आक़ा से मिला दे तो मज़ा आ जाए

Jaan ki dewar gira de to maza aa jaye
Maut aaqa se mila de maza aa jaye

 

नींद आ जाए मुझे पढ़ते हुए उन पर दुरूद
और खुदा उनसे मिला दे तो मजा आ जाए

Neend aa jaye mujhe padhte huye un par durood
Aur khuda unse mila de to maza aa jaye

 

उन की दहलीज पर पड़े जिस वक़्त मेरी नज़र
इश्क़ दीवाना बना दे तो मज़ा आ जाए

Unki dahleej par pade jis waqt meri nazar
Ishq diwana bana de to maza aa jaye

 

अपने महबूब के तलवों का मुझे भी धोवन
एक दो बूंद पिला दे तो मज़ा आ जाए

Apne mahboob ke Talwon ka mujhe bhi dhoban
Ek do boond pila de to maza aa jaye

 

उनके नालैन कहां और कहां सर मेरा
फिर भी तौफ़ीक़ खुदा दे तो मज़ा आ जाए

Unke nalain kahan aur kahan sar mera
Fir bhi toufeeq khuda de to maza aa jaye

 

शहर ए सरकार से ला करके कोई अजवा खुजूर
सिर्फ़ इफ़्तार करा दे तो मज़ा आ जाए

Shahar e sarkar se karke koi ajwa khujoor
Sirf iftaar kara de to maza aa jaye

 

छोड़ देते हों जिसे खाकर मदीने के फ़क़ीर
कोई वो झूठा खिला दे मज़ा आ जाए

Chhor dete hon jise kha ke madine ke faqeer
Koi wo jhootha khila de to maza aa jaye

 

और कुछ दिन तेरे महबूब का रौज़ा देखूँ
ऐ ख़ुदा उम्र बढ़ा दे तो मज़ा आ जाए

Aur kuchh din tere mahboob ka rouza dekhun
Ae khuda umr badha de to maza aa jaye

 

अब तो जावेद मदीने में मिलूंगी तुझसे
ये ख़बर मौत सुना दे तो मज़ा आ जाए

Ab to javed madine me milungi tujhse
Ye khabar mout suna de to maza aa jaye

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.