Mera Payambar Azeem Tar Hai Lyrics

 

मेरा पयंबर अज़ीम तर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

तमाल ए ख़ल्लाक़ ज़ात उसकी
जमाल ए हसती हयात उसकी
Kamaal-e-Khallaq Zaat Uski
Jamaal-e-Hasti Hayaat Uski

बशर नहीं अज़मते बशर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Bashar Nahi Azmat-e-Bashar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

वोह शर्ह़े एहकामे हक़ तआ़ला
वोह ख़ुद ही क़ानून ख़ुद ह़वाला
Woh Sharh-e Ehkaam-e Haq Ta’ala
Woh Khud Hi Qanoon Khud Hawala

वोह ख़ुद ही क़ुरआन ख़ुद ही क़ारी
वोह आप महताब आप हाला
Woh Khud Hi Qur’aan Khud Hi Qari
Woh Aap Mehtaab Aap Haala

वह अक्स भी और आईना भी
वह नुक्त़ा भी, ख़त भी, दायरा भी
Woh Aqs Bhi Aur Aaina Bhi
Woh Nukta Bhi, Khat Bhi, Daayera Bhi

वोह ख़ुद नज़ारा है, ख़ुद नज़र है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Woh Khud Nazaara Hai, Khud Nazar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

शऊ़र लाया, किताब लाया
वह हश्र तक का निसाब लाया
Sha’oor Laaya, Kitab Laaya
Woh Hashr Tak Ka Nisaab Laya

दिया भी कामिल निज़ाम उसने
और आप ही इंकलाब लाया
Diya Bhi Kaamil Nizaam Usne
Aur Aap Hi Inqilaab Laya

वोह इ़ल्म की और अ़मल की हद भी
असल भी उसका है और अबद भी
Woh ilm Ki Aur Amal Ki Had Bhi
Azal Bhi Uska Hai Aur Abad Bhi

वोह हर जमाने का राहबर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Woh Har Zamane Ka Raahbar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

वह आदमो नूह़ से ज़्यादा
बुलंद हिम्मत बुलंद इरादा
Woh Aadam o Nooh Se Zyada
Buland Himmat Buland Irada

वह ज़ोहदे ईसा से कोसों आगे
जो सबकी मंजिल वह उसका जादा
Woh Zohd e Eesa Se Kosoñ Aage
Jo Sabki Manzil Woh Uska Jaada

हर इक पयंबर निहां है उसमें
हुजूमे पैगंबरां है उसमें
Har IK Payambar Nihañ Hai Usmeiñ
Hujoom-e Paighambarañ Hai Usmein

वह जिस तरफ़ है ख़ुदा उधर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Woh Jis Taraf Hai Khuda Udhar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

बस एक मस्कीज़ा इक चटाई
ज़रा से जौ एक चारपाई
Bas Ek Mashkeeza Ik Chatai
Zara Se Jau Ek Chaar Paayi

बदन पे कपड़े भी वाजिबी से
न ख़ुश लिबासी न ख़ुश क़बाई
Badan Pe Kapde Bhi Waajibi Se
Na Khush Libasi Na Khush Qabaayi

यही है कुल कायनात जिसकी
गिनी न जाएं सिफ़ात जिसकी
Yehi Hai Kul Kaayenaat Jiski
Gini Na Jaye Sifaat Jiski

वोही तो सुल्ताने बैहरो-बर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Wohi To Sultaan-e-Bahr-o-Bar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

जो अपना दामन लहू से भर ले
मुसीबतें अपनी जान पर ले
Jo Apna Daaman Lahoo Se Bhar Le
Museebateiñ Apni Jaan Par le

जो तेग़े ज़न से लड़े निहत्ता
जो ग़ालिब आकर सुलाह कर ले
Jo Teigh-e Zan Se Lade Nihattha
Jo Ghaalib Aakar Bhi Sulah Kar Le

असीर दुश्मन की चाह में भी
मुख़ालिफ़ों की निगाह में भी
Aseer Dushman Ki Chaah Mein Bhi
Mukhaalifoñ Ki Nigaah Mein Bhi

अमीं है, सादिक है, मोतबर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Ameeñ Hai, Sadiq Hai, Mo’atbar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

जिसे शहे शश जिहात देखूं
उसे ग़रीबों के साथ देखूं
Jise Shah-e Shash Jihaat Dekhuñ
Use Ghariboñ Ke Saath Dekhuñ

इ़नाने कौनो मकां जो थामे
कुदाल पर भी वह हाथ देखूं
Inaan e Kaun o Makañ Jo Thaame
Kudaal per Bhi Woh Haath Dekhuñ

लगे जो मज़दूर शाह ऐसा
न ज़र, न धन, सरवराह ऐसा
Lage Jo Mazdoor Shaah Aisa
Na Zar, Na Dhan, Sarbaraah Aisa

फलक नशीं का ज़मीं पे घर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Falak Nasheeñ Ka Zameeñ Pe Ghar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

 

वोह ख़लवतों में भी सफ़ बसफ़ भी
वोह इस तरफ़ भी वह उस तरफ भी
Woh khalwaton mein bhi saf ba saf bhi
Woh iss taraf bhi woh uss taraf bhi

महाजो मिंबर ठिकाने उसके
वोह सर ब-सज्दा भी सर ब-कफ़ भी
Mahaaz o Mimbar Thikaane Us Ke
Woh Sar Ba Sajda Bhi Sar Ba Kaf Bhi

कहीं वोह मोती, कहीं सितारा
वोह जामेई़यत का इसतेआ़रा
Kahiñ Woh Moti Kahiñ Sitaara
Woh Jame-ee-yat Ka Iste’aara

वोह सुब्हे है तहज़ीब का गजर है
मेरा पयंबर अज़ीम तर है
Woh Subh-e-Tahzeeb Ka Gajar Hai
Mera Payambar Azeem Tar Hai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.