Muqaddar Se Agar Sarkar Me Jana Mayassar Ho Naat Lyrics

 

मुक़द्दर से अगर सरकार में जाना मयस्सर हो

Shayar: Huzoor Ahsanul Alaihirrahma | Naat e Paak

 

मुक़द्दर से अगर सरकार में जाना मयस्सर हो

तो जो कुछ मेरे दिल में है वो सब कुछ मेरे लब पर हो

Muqaddar Se Agar Sarkar Me Jana Mayassar Ho

To Jo Kuchh Mere Dil Me Hai Wo Sab Kuchh Mere Lab Par Ho

 

 

शरफ़ ह़ासिल है तुमको सारी मख़्लूक़े इलाही पर

नबीयों और रसूलों के भी आक़ा तुम तो सरवर हो

Sharaf Hasil Hai Tumko Saari Makhlooq E Ilaahi Par

Nabiyon Aur Rasoolon Ke Bhi Aaqa Tum To Sarwar Ho

 

 

तुम्हारा ह़ुक्म है जारी व सारी सारे आ़लम में

न क्यूं कर हो कि तुम तो नायबे ख़ल्लाक़े अकबर हो

Tumhara Huqm Hai Jaari Wa Saari Sarey Aalam Me

Na Kyon Kar Ho Ki Tum To Naibe Khallaqe Akbar Ho

 

 

मेरे दिल से गुनाहों का ये सारा मैल धुल जाए

अगर बारिश तुम्हारे नूर की मुझे पे भी दम भर हो

Mere Dil Se Gunahon Ka Ye Sara Mail Dhul Jaye

Agar Barish Tumhare Noor Ki Mujhe Pe Bhi Dum Bhar Ho

 

 

क़यामत में मुझे अपने गुनाहों का नहीं खटका

ख़ुदा के फ़ज़्ल से जब तुम शफ़ी-ए-रोज़े मह़शर हो

Qayamat Me Mujhe Apne Gunahon Ka Nahi Khatka

Khuda Ke Fazl Se Jab Tum Shafi-E-Roze Mahshar Ho

 

 

ख़ुदाया गर्मी-ए-मह़शर से तू हमको बचा लेना

हमारे सर पे उस दिन दामने मह़बूबे दावर हो

Khudaya Garmi-E-Mahshar Se Tu Hamko Bacha Lena

Hamare Sar Pe Us Din Daman E Mahboobe Dawar Ho

 

 

ज़बानें प्यास से जब अरसा-ए-मह़शर में हों बाहर

मुझे भी अपने सदक़े में अता एक जामे कौसर हो

Zabane Pyaas Se Jab Arsa-E-Mahshar Me Hon Bahar

Mujhe Bhi Apne Sadqe Me Ata Ek Jam E Kousar Ho

 

 

मेरी दारैन की बिगड़ी बना दो अब मेरे आक़ा

तुम्ही से आस है मुझको तुम्ही तो मेरे यावर हो

Meri Darain Ki Bigdi Bana Do Ab Mere Aaqa

Tumhi Se Aas Hai Mujhko Tumhi To Mere Yawar Ho

 

 

तुम्हारे नाम की हैबत से कांप उठते हैं सब बे दीं

कि उनके ह़क़ में तो तुम नायबे क़ह्हारे अकबर हो

Tumhare Naam Ki Haibat Se Kaanp Uthtey Hain Sam Be-Deen

Ki Unke Haq Me To Tum Nayab-E-Qahhare Akbar Ho

 

 

ख़ुदा की देन है इसमें किसी का क्या इजारा है

कि उसके फ़ज़्ल से तुम आलिमे हर ख़ुश्क व हर तर हो

Khuda Ki Dain Hai Ismen Kisi Ka Kya Ijaara Hai

Ki Uske Fazl Se Tum Aalime Har Khushk Wa Har Tar Ho

 

 

ह़सन की लाज रख लेना करम से अपने ऐ आक़ा

बरोज़े ह़श्र जब वो रु बरु-ए-रब्बे अकबर हो

Hasan Ki Laaj Rakh Lena Karam Se Apnea E Aaqa

Baroz-E-Hashr Wo Roo Baroo-E-Rabbe Akbar Ho

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.