Nabi e Muazzam Habib e Mukrram Lyrics

 

नबी ए मुअज़्ज़म, हबीब ए मुकर्रम
ब-सद शान ख़ैरुल अनाम आ रहा है
फ़लक से मलक आ गए हैं ज़मीं पर,
खुदा का दुरुदो सलाम आ रहा है

Nabi e Muazzam, Habib e Mukrram
Ba-Sad Shan Khairul Anaam Aa Raha Hai
Falak Se Malak Aa Gaye Hain Zamin Par
Khuda Ka Durood o Salam Aa raha Hai

 

ज़बां पर नबी का जो नाम आ रहा है,
नई ज़िन्दगी का पयाम आ रहा है
मुसलसल मेरे मुस्त़फ़ा पर ख़ुदा का
दुरुद आ रहा है, सलाम आ रहा है

Zaba(n) Par Nabi Ka Jo Naam Aa raha Hai,
Naee Zindagi Ka Payaam Aa raha Hai
Musalsal Mere Mustafa Par Khuda Ka
Durood Aa raha Hai Salam Aa raha Hai

 

है काला-कलोटा हवश का जवां जो,
ज़मीं जो था कल आज है आसमां वोह
है जन्नत की रानी अब उसकी दिवानी,
मुह़ब्बत में कैसा मकाम आ रहा है

Hai Kala-Kalota Hawash Ka Dawa(n) Jo,
Zami Jo Tha Kal Aaj Hai Aasma Woh
Hai Jannat Ki Raani Ab Uski Diwani,
Muhabbat Me Kaisa Makaam Aa raha Hai

 

मुनव्वर मोअत्तर फ़रिश्तों के लब पर,
यही था तराना ब-सद आशिक़ाना
मुबारक हो ऐ आमना बी,
तेरे घर रिसालत का माहे तमाम आ रहा है

Munawwar Mo’attar Farishton Ke Lab Par,
Yahi Tha Tarana Ba-Sad Aashiqana
Mubarak Ho E Aamna Bi, Tere Ghar
Risalat Ka Maahe Tamaam Aa raha Hai

 

समझ, सोचकर ही क़दम अपने रखना
ये शहरे नबी है ज़रा तू सम्भलना
अदब की ज़मी है अदब ही से चलना,
वो देखो अदब का मकाम आ रहा है

Samajh, Sochkar Hi Qadam Apne Rakhna
Ye Shahre Nabi Hai Zara Tu Sambhalna,
Adab Ki Zamin Hai Adab Hi Se chalna
Wo dekho Adab Ka Makaam Aa raha Hai

 

वोह शमसुद्दुहा हैं, वोह बदरुद्दुजा हैं,
शफ़ीउल वरा हैं, समझ से सिवा हैं
ये ज़िन्दा अक़ीदा, ये सुथरा तरीक़ा,
क़यामत की मुश्किल में काम आ रहा है

Woh Shamsudduha, Woh Badrudduja Hain,
Shafiul Wara Hain, Samajh Se Siwa Hain
Ye Zinda Aqeeda, Ye Suthra Tariqa,
Qayamat Ki Mushkil Me Kaam Aa raha Hai

 

जो जैनब ने पूछा ये क्या हो गया है?
तो शब्बीर बोले अभी सो गया है
के असगर की अब तिश्नगी बुझ गई है
ये पी कर शहादत का जाम आ रहा है

Jo Jainab Ne Poochha Ye Kya Ho Gaya Hai?
To Shabbir Bole Abhi So Gaya Hai
Ke Asgar Ki Ab Tishnagi Bujh Gayi Hai
Ye Pee Kar Shahadat Ka Jaam Aa raha Hai

 

वहां थे नज़र में, यहां हैं नज़र पर
वहां दोश पर थे, यहां हैं ज़मीं पर
मदीने में नाना ने जो कुछ पढ़ाया
वही आज कर्बल में काम आरहा है

Waha The Nazar Me, Yahan Hain Nazar Par
Waha Dosh Par The, Yahan Hain Zami(n) Par
Madine Me Nana Ne Jo Kuchh Padhaya
Wahi Aaj Karbal Me Kaam Aa raha Hai

 

खुशी की लहर दौड़ जायेगी हर शू
फ़ज़ाओं में होगी मुहब्बत की खुशबू
अचानक सरे हश्र जब शोर होगा
वोह देखो नबी का ग़ुलाम आ रहा है

Khushi Ki Lahar Doud Jayegi Har Shoo
Fazao(n) Me Hogi Muhabbat Ki Khushboo
Achanak Sare Hashr Jab Shor Hoga
Woh Dekho Nabi Ka Ghulam Aa raha Hai

 

तू दुनिया में ज़म़ज़म बहुत पी रहा था
नबी की मुह़ब्बत में तू जी रहा था
यहां भी तू पढ़ नाते सरकार ज़मज़म
तेरे नाम कौसर का जाम आ रहा है

Tu Duniya Me Zamzam Bahut Pi Raha Tha
Nabi Ki Muhabbat Me Tu Ji raha Tha
Yahan Bhi Tu Padh Naate Sarkar Zamzam
Tere Naam Kousar Ka Jaam Aa raha Hai

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: