Sarkar Aa Rahe Hain Lyrics

 

 

Sarkar Aa Rahe Hain Lyrics By Muhammad Ali Faizi

सरकार आ रहे हैं

 

Qudrat ne aaj apne Jalwe dikha diye hain

Aamad pe musatfa ki Parde utha diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Ye kon aa raha hai, Ye kon aaj aaya

Soye huye muqaddar kis ne jaga diye

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Jab unka naam le ker mazloom koi roya

zanjir tod di hai qaidi chhura diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Bekas nawaz un sa paida hua na hoga

Bichhre mila diye hain, ujre basa diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Allah re hawaein us daman e karam ki

Banjar zami thi phir bhi gulshan khila diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Bahre karam me unke uthtie jo mouj e rahmat

Marte bacha liye hain, girte utha diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Shahon ke dar pe jana tauheed thi hamari

Unki gali me hamne bistar laga diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Sadqe main aabdi us haajat rawa nazar par

Jisne gada hazaron sultan bana diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Ghaza samajh ke muh per malte hain Ahle nisbat

Mitti ne unke dar ki mukhde saja diye hain

 

Sarkar aa rahe hain 3

 

Badhti hi ja rahi hain taabaniya haram ki

Bujhte nahin kisi se taiba ke kya diye hain

 

Sarkaar aa rahe hain 3

 

Seene me hun sajaye yaadon ki ek mahfil

Unki lagan ne dil me mele laga diye hain

 

Sarkaar aa rahe hain 3

 

Wo jane ae naseer ab ya jane unka khaliq

Hamne to dil ke dukhde inko suna diye hain

 

Sarkaar aa rahe hain 3

 

Naat khwan : Muhammad ali faizi

Sarkar Aa Rahe Hain Lyrics In Hindi
क़ुदरत ने आज अपने जल्वे दिखा दिए हैं

आमद पे मुस्तफ़ा की पर्दे उठा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

ये कौन आ रहा है, ये कौन आ जाया

सोए हुए मुक़द्दर किसने जगा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

जब उनका नाम लेकर मज़लूम कोई रोया

ज़ंजीर तोड़ दी है क़ैदी छुड़ा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

बेकस नवाज़ उत्साह पैदा हुआ ना होगा

बिछड़े मिला दिए हैं उजड़े बसा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

अल्लाह अरे हवाएं उस दामने करम की

बंजर ज़मीन थी फिर भी गुलशन खिला दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

बहरे करम में उनके उठती जो मौज़ ए रह़मत

मरते बचा लिए हैं गिरते उठा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

शाहों के दर पे जाना तौहीद थी हमारी

उनकी गली में हमने बिस्तर लगा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

सदक़े मैं आबदी उस हाज़त रब्बा नज़र पर

जिसने गदा हजारों सुल्तां बना दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

गाज़ा समझ के मुंह पर मलते हैं अहले निस्बत

मिट्टी ने उनके दर की मुखड़े सजा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

बढ़ती ही जा रही हैं ताबानिया हरम की

बुझते नहीं किसी से तयबा के क्या दिये हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

सीने में हूं सजाए यादों की एक महफ़िल

उनकी लगन ने दिल में मेले लगा दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

 

वो जाने ऐ नसीर अब या जाने उनका ख़ालिक़

हमने तो दिल के दुखड़े इनको सुना दिए हैं

 

सरकार आ रहे हैं 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.