Sham Jaisi Lagti Hai Do-Pahar Madine Me Lyrics

 

 

Sham Jaisi Lagti Hai Do-Pahar Madine Me Lyrics

 

रहमतों की ठंडक है इस कदर मदीने में
शाम जैसी लगती है दोपहर मदीने में

 

हमको उनकी गलियों में भी अदब से चलना है
रह गुज़र भी होती है मोतबर मदीने में

रहमतों की ठंडक है इस कदर मदीने में
शाम जैसी लगती है दोपहर मदीने में

 

हम गुनाहगारों को और कौन पूछेगा
आइए चला जाए उनके दर मदीने में

रहमतों की ठंडक है इस कदर मदीने में
शाम जैसी लगती है दोपहर मदीने में

 

इम्तियाज़ रखती है शान-ए-हज़रते सिद्दीक़
बनके पहुंचे आक़ा के हमसफ़र मदीने में

रहमतों की ठंडक है इस कदर मदीने में
शाम जैसी लगती है दोपहर मदीने में

 

बस फ़हीम के दिल की एक ही तमन्ना है
काश वो रहे आक़ा उम्र भर मदीने में

रहमतों की ठंडक है इस कदर मदीने में
शाम जैसी लगती है दोपहर मदीने में

 

Naat Khwan: Faheem pihanvi
Shayar: Faheem pihanvi

Sham Jaise Lagti Hai Do-Parhar Lyics In English

Rahmaton ki thandak hai is qadar madine me
Shaam jaisi lagti hai dopahar madine me

 

Hamko unki galiyon me bhi adab se chalna hai
Rah guzar bhi hoti hai motbar madine me

 

Ham gunahgaron ko aur kaun poochhega
Aaiye chala jaye unke dar madine me

 

Imtiyaaz rakhti hai shaan-e-hazrate siddiq
Banke pahunche aaqa ke hamsafar madine me

 

Bas faheem ke dil ki ek hi tamanna hai
Kash wo rahe aaqa umr bhar madine me

 

Rahmaton ki thandak hai is kadar madine me
Sham jaisi lagti hai dopahar madine me

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.