Unke Kirdar Ki Sadgi Ki Naat Lyrics

 

 

Unke Kirdar Ki Sadgi Ki Naat Lyrics
Naat Khwan: Sarfaraz Hussain,

Shayar: ‘Faraaz’ Muradabadi

 

उनके किरदार की सादगी की।
हर ज़बाँ पर है मिदह़त नबी की।

 

Unke Kirdar Ki Sadgi Ki
Har Zaba.n Par Hai Midhat Nabi Ki

 

दीने ह़क़ की सदा पैरवी की।
यूँ बसर आपने ज़िन्दगी की।

 

Deen e Haq Ki Sada Pairwi Ki
Yun Basar Aap Ne Zindagi Ki

 

हूरो ग़िलमाँ हों या जिन्नों इन्सां।
बात करते हैं सब आप ही की।

 

Huro Gilma.n Hain Sab Aap Hee Ke
Baat Karte Hain Sab Aap Hee Ki

 

आप से पेशतर था अँधेरा।
आपने दूर हर तीरगी की।

 

Aap Se Peshtar Tha Andhera
Aap Ne Door Har Teergi Ki

 

शम्मे दीन रौशन है तुम से।
तुम ज़मानत हो इस रौशनी की।

 

Sham e Deen Roushan Hai Tum Se
Tum Zamanat Ho Is Roushani Ki

 

मुझ गुनहगार की रोज़े मह़शर।
लाज रख लेना दीवानगी की।

 

Mujh Gunahgar Ki Roze Mahshar
Laaj Rakh Lena Deewangi Ki

 

है फ़राज़ आप ही का तो शैदा।
डोर टूटे न यह आ़शिक़ी की।

 

Hai Faraaz Aap Hee Ka To Shaida
Dor Toote Na Yeh Aashiqi Ki

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.