Unki Yaad Meiñ Rahta Hooñ Naat Lyrics

 

Unki Yaad Meiñ Rahta Hooñ Naat Lyrics in Hindi and English उनकी याद में रहता हूं और मुझे कुछ काम नहीं

Shayar: Khalid Mahmud ‘Khalid’

 

 

Bandagi Ka Suroor Milta Hai

Deedah e Dil Ko Noor Milta Hai

Zikr e Sarkar Se Khuda Ki Qasam

Zindagi Ka Shaoor Milta Hai

 

 

Unki Yaad Meiñ Rahta Hooñ

Aur Mujhe Kuchh Kaam Nahiñ,

Saare Achchhe Naam Haiñ Unke

Mera Koi Naam Nahiñ

 

 

Unki Yaad Ka Ehsaañ Hai,

Fiqr e Sub’ho Shaam Nahiñ,

Bin Maañge Har Cheez Mili Hai

Mahroomi Ka Naam Nahiñ

 

 

Hum Ne To Dekhi Hi Nahiñ,

Soorat Hi NaKaami Ki,

Unka Karam Ho Jaaye To

Mushkil Koi Kaam Nahiñ

 

 

Jitna Jiska Zarf e Talab

Waisa Uska Paimaana,

Bat’ha Ke MaiKhane Meiñ

Koi Tishna Kaam Nahiñ

 

 

Gham Bhi Hai Rahat Saamaañ

Dil Ki Dhadkan Ik Paighaam,

Dard Tumhara Darmaañ Hai

Dil Waqf e Aalaam Nahiñ

 

 

Unki Chaukhat Par Ho Sar

Aur Safar Ho Duniyañ Se,

Woh Hasti Kya Hasti Hai?

Jiska Ye Anjaam Nahiñ

 

 

Har Soo Jaakar Dekh Liya

Har Baadi Maayūsi Hai,

Apne Paas Bula Leeje

Aur Kahiñ Aaram Nahiñ

 

 

Bekal Ho Kar Shaad Bhi Hai

Jalwoñ Se Aabaad Bhi Hai,

Dil Meiñ Unki Yaad Bhi Hai

Koi Tadap NaKaam Nahiñ

 

 

Sadqa Unki Aañkhoñ Ka

Masti Saare Aalam Ki,

Ye MaiKhana Aisa Hai

Jis Meñ Shart-e-Jaam Nahiñ

 

 

Taiba Tak Mahdood Nahiñ

Unka Jalwah ai Waa-iz,

Woh to Yahañ Bhi Haiñ Lekin

Deed Mazaaq e Aam Nahiñ

 

 

Jisko Unka Dard Mila

Saari kaayenaat Mili,

IsSe Badh Kar Allah Ka

Aur Koi In’aam Nahiñ

 

 

Jab Se Tere Daaman Ne

Bakhshi Hai Bhar-Poor Amaañ,

Meri Jaanib ai Aaqa

Koi Rukh e ilzaam Nahiñ

 

 

Mere TadapNe Ki Khalid

Unko Khabar Ho Jaati Hai,

Arz Meri Sun Lete Haiñ

Koi Tadap NaKaam Nahiñ

 

 

 

बंदगी का सुरूर मिलता है

दीदा ए दिल को नूर मिलता है

ज़िक्र ए सरकार से ख़ुदा की क़सम

ज़िन्दगी का शऊर मिलता है।

 

उनकी याद में रहता हूं और मुझे कुछ काम नहीं

सारे अच्छे नाम हैं उनके, मेरा कोई नाम नहीं।

 

 

 

उनकी याद का एहसां है फिक्र ए सुब्हो शाम नहीं

बिन मांगे हर चीज़ मिली है महरूमी का नाम नहीं।

 

हमने तो देखी ही नहीं सूरत ही नाकामी की

उनका करम हो जाए तो मुश्किल कोई काम नहीं।

 

जितना जिसका ज़र्फ़ ए तलब वैसा उसका पैमाना

बत्हा के मयख़ाने में कोई तिशना काम नहीं।

 

ग़म भी है राहत सामां, दिल की धड़कन इक पैग़ाम

दर्द तुम्हारा दरमा है, दिल वक्फ ए आलाम नहीं।

 

उनकी चौखट पर हो सर और सफ़र हो दुनियां से

वोह हस्ती क्या हस्ती है? जिसका ये अंजाम नहीं।

 

हर सू जाकर देख लिया, हर बादी मायूसी है

अपने पास बुला लीजे और कहीं आराम नहीं।

 

 

 

बेकल होकर शाद भी है, जल्वों से आबाद भी है

दिल में उनकी याद भी है, कोई तड़प नाकाम नहीं।

 

सदक़ा उनकी आंखो का, मस्ती सारे आलम की

ये मयख़ाना ऐसा है जिसमें शर्त ए जाम नहीं।

 

तैयबा तक महदूद नहीं उनका जलवा ऐ वाइज़

वोह तो यहां भी हैं लेकिन दीद मज़ाक़ ए आम नहीं।

 

जिसको उनका दर्द मिला सारी कायेनात मिली

इससे बढ़ कर अल्लाह का और कोई इनआ़म नहीं।

 

 

 

जब से तेरे दामन ने बख़्शी है भरपूर अमां

मेरी जानिब ऐ आक़ा कोई रुख़ ए इल्ज़ाम नहीं।

 

मेरे तड़पने की ख़ालिद, उनको ख़बर हो जाती है

अर्ज़ मिरी सुन लेते हैं, कोई तड़प नाकाम नहीं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.