Karta Hai Apni Mansha Tu Kaisa Ummati hai Lyrics

 

करता है अपनी मनशा तू कैसा उम्मती है

Artist: Mugheera Haider
Lyrics: Hud Hud

 

Tu Kaisa Ummati hai, Tu Kaisa Ummati hai
Karta Hai Apni Mansha Tu Kaisa Ummati hai
Chhoda Nabi Ka Rasta Tu Kaisa Ummati hai
तू कैसा उम्मती है, तू कैसा उम्मती है
करता है अपनी मनशा तू कैसा उम्मती है
छोड़ा नबी का रास्ता तू कैसा उम्मती है

 

Mahboob e Kibriya Ke Sardar e Ambiya Ke
Gham Ko Nahi Samjhta Tu Kaisa Ummati Hai
महबूब-ए-किबरिया के सरदार-ए-अंबिया के
ग़म को नहीं समझता तू कैसा उम्मती है

 

Hirso Hawas Ki Sab Yaad Hain Tujhe Par
Bhoola Hai Rahe Taqba Tu Kaisa Ummati hai
हिरसो हवस की सब याद हैं तुझे पर
भूला है राहे तक़बा तू कैसा उम्मती है

 

Khailon Me Dhoondta Hai Izzato Kamyabi
Banda Hai Maalon Zar Ka Tu Kaisa Ummati hai
खेलों में ढूंढता है इज़्ज़त-ओ-कामयाबी
बंदा है मालो ज़र का तू कैसा होती है

 

Karta Hai Apna Mansha Tu Kaisa Ummati hai
Chhoda Nabi Ka Rasta Tu Kaisa Ummati hai
करता है अपनी मनशा तू कैसा उम्मती है
छोड़ा नबी का रास्ता तू कैसा उम्मती है

 

Ik Goonjta Taswwur Kahta Hai Roj Mujhse
Badla Na Dil Ka Qibla Tu Kaisa Ummati hai
एक गूंजता तसव्वुर कहता है रोज मुझसे
बदला न दिल का क़िबला तू कैसा उम्मती है

 

Aghyar Ke Liye To Dil Me Hai Tere Narmi
Apno Se Hai Jhagarta Tu Kaisa Ummati hai
अग़ियार के लिए तो दिल में है तेरे नरमी
अपनों से है झगड़ा तू कैसा उम्मती है

 

Kahti Hain Khankahen Kahta Hai Har Madarsa
Tu Kaisa Ummati hai, Tu Kaisa Ummati hai
कहती हैं खानकाहें कहता है हर मदरसा
तू कैसा उम्मती है, तू कैसा उम्मती है

 

Karta Hai Apna Mansha Tu Kaisa Ummati hai
Chhoda Nabi Ka Rasta Tu Kaisa Ummati hai
करता है अपनी मनशा तू कैसा उम्मती है
छोड़ा नबी का रास्ता तू कैसा उम्मती है

 

Sunta Hai Shaam-o-verma Kashmir Ki Tu Khabrein
Tera Dil Nahin Larajta Tu Kaisa Ummati hai
सुनता है शाम-ओ-वर्मा कश्मीर की तू खबरें
तेरा दिल नहीं लरजता तू कैसा उम्मती है

 

Man Chahi Raston Ka Raahi Ba-Roze Mahshar
Kahdena Shahe Bat’ha Tu Kaisa Ummati Hai
मनचाहे रास्तों का राही ब-रोज़े महशर
कह देना शाहे बत़हा तू कैसा उम्मती है

 

Do Din Ki Zindagi Ko Maqsad Bana Ke Hud Hud
Bhati Hai Tujhko Duniya Tu Kaisa Ummati Hai
दो दिन की ज़िन्दगी को मक़सद बना कर हुद हुद
भाती है तुझको दुनिया तू कैसा उम्मती है

 

Karta Hai Apni Mansha Tu Kaisa Ummati hai
Chhoda Nabi Ka Rasta Tu Kaisa Ummati hai
करता है अपनी मनशा तू कैसा उम्मती है
छोड़ा नबी का रास्ता तू कैसा उम्मती है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.