Mele mein har ik rang ke deewane milenge lyrics

 

 

 

Milegi bheek to is par hi pal jaaunga maiñ daata

Ab is darbaar se uth kar nahi jaaunga maiñ daata

Uthaayega koi mujhko to mar jaauñga maiñ Daata

Fana hokar ghubaar e raah ban jaauñga maiñ Daata

मिलेगी भीक तो इस पर ही पल जाऊंगा मैं दाता

अब इस दरबार से उठकर नहीं जाऊंगा मैं दाता

उठाएगा कोई मुझको तो मर जाऊंगा मैं दाता

फ़ना हो कर ग़ुबार ए राह बन जाऊंगा मैं दाता।

 

Allah ka ye kis qadar mujh par inaam hai

Daata ke naam lewa meiñ mera bhi naam hai.

अल्लाह का ये किस क़दर मुझ पर इनाम है

दाता के नाम लेवा में मेरा भी नाम है।

 

Aapas meiñ bade pyar se BeGaane mileñge

Mele mein har ik rang ke deewane milenge.

आपस में बड़े प्यार से बेगाने मिलेंगे

मेले में हर इक रंग के दीवाने मिलेंगे।..

 

Zamaana hai daata piya ka sawaali

Kabhi koi Chaukhat se lauta na khali

Jise aaj dekho yahi kah raha hai

Sakhawat hai daata piya ki niraali ..

ज़माना है दाता पिया का सवाली

कभी कोई चौखट से लौटा न ख़ाली

जिसे आज देखो यही कह रहा है

सख़ावत है दाता पिया की निराली। …

 

Fir Baarah mahine guzre aur karam ka rela aaya

Fir Eid manaao masto daata ka mela aaya …

फिर बारह महीने गुज़रे और करम का रेला आया

फिर ईद मनाओ मस्तो दाता का मेला आया। ..

 

Use aaj man ki Muraadeñ milengi

Jise daata hajweri se pyar hoga

उसे आज मन की मुरादें मिलेंगी

जिसे दाता हजवेरी से प्यार होगा।

 

Khuda ki qasam aaj shab aashiqon ko..

ख़ुदा की क़सम आज शब आशिक़ों को …

 

Mera Aqeeda agar poochho Ambiya ki qasam

मेरा अकीदा अगर पूछो अंबिया की क़सम

 

Butool, Shabbar o Shabbir rahnuma ki qasam

बुतूल, शब्बर ओ शब्बीर रहनुमा की क़सम

 

Taaj e khusro ki qasam, takht e sulemañ ki qasam

ताज ए ख़ुसरो की क़सम, तख़्त ए सुलेमां की क़सम

 

Dam e Eesa ki qasam, hikmat e Luqmañ ki qasam

दम ए ईसा की क़सम, हिक़मत ए लुकमा की क़सम

 

Ibn e Mariyam ki qasam aur yad e baiza ki qasam

इब्न ए मरियम की क़सम और यद ए बैज़ा की क़सम

 

Raah e Karbal ki qasam, baazu e Haidar ki qasam

राह ए करबल की क़सम, बाज़ू ए हैदर की क़सम

 

Halq e Asghar ki qasam, jaawar e Sughra ki qasam

हल्क़ ए असगर की क़सम, जावर ए सुग़रा की क़सम

 

Bas is se badh ke qasam kuchh nahi khuda ki qasam

बस इससे बढ़के क़सम कुछ नहीं खुदा की क़सम।

 

Khuda ki qasam aaj shab aashiqon ko

Sar e Bazm Daata Ka Deedar hoga..

ख़ुदा की क़सम आज शब आशिक़ों को

सरे बज़्म दाता का दीदार होगा। ..

 

Aañkh wala Tere joban ka tamaasha dekhe

Deeda e kour ko kya aaye Nazar kya dekhe

आंख वाला तेरे जोबन का तमाशा देखो

दीदह ए कोर को क्या आए नज़र क्या देखे।

 

Khuda ki qasam aaj shab aashiqoñ ko

Sar e Bazm Daata Ka Deedar hoga..

ख़ुदा की क़सम आज शब आशिक़ों को

सरे बज़्म दाता का दीदार होगा।..

 

Kahiñ Noor ke deep jalne lage hain

Kahi phool rahmat ke khilne lage hain

Utho Maañgne Waalo Daaman Sañbhalo

Ke, Sadqe shaheedoñ ke milne lage haiñ.

कहीं नूर के दीप जलने लगे हैं

कहीं फूल रहमत के खिलने लगे हैं

उठो मांगने वालो दामन संभालो

के, सदक़े शहीदों के मिलने लगे हैं।

 

Khuda rakhe daata ke dar ko salamat

Zamaane ki jholi Bhari ja rahi hai

Ai Faiyyaz kitna suhaana sama hai

Har ik samt se ye sada aa rahi hai.

ख़ुदा रखे दाता के दर को सलामत

ज़माने की झोली भरी जा रही है

ऐ फैय्याज़ कितना सुहाना समां है

हर इक सम्त से ये सदा आ रही है।..

 

Aapas meiñ bade pyar se BeGaane milenge

Mele mein har ik rang ke deewane milenge

आपस में बड़े प्यार से बेगाने मिलेंगे

मेले में हर इक रंग के दीवाने मिलेंगे..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.