Sun Lo Khuda Ke Wastey Apne Gada Ki Arz Lyrics

 

Sun Lo Khuda Ke Wastey Apne Gada Ki Arz Lyrics
सुन लो खुदा के वास्ते अपने गदा की अ़र्ज़

Naat Khwan: Owias Raza Qadri
Shayar: Moulana Hasan Raza Khan

सुन लो खुदा के वास्ते अपने गदा की अ़र्ज़
ये अ़र्ज़ है हज़ूर बड़े बे-नवा की अ़र्ज़

Sun Lo Khuda Ke Wastey Apne Gada Ki Arz Lyrics
Ye Azr Hai Huzoor Bade Be-Nawa Ka Arz

 

उनके गदा के दर पे है यूं बादशाह की अ़र्ज़
जैसे हो बादशाह के दर पर गदा की अ़र्ज़

Unke Gada Ke Darr Pe Hai Yun Badashah Ki Arz
Jaise Ho Badshah Ke Darr Pe Gada Ki Arz

 

सुन लो खुदा के वास्ते अपने गदा की अ़र्ज़

Sun Lo Khuda Ke Wastey Apne Gada Ki Arz Lyrics

 

उलझन से दूर , नूर से मामूर कर मुझे
ऐ ज़ुल्फ़े पाक है ये असीरे बला की अ़र्ज़

Uljhan Se Door, Noor Se Mamoor Kar Mujhe
Ae Zulfe Paak Hai Ye Aseer-e-bala Ki Arz

 

सुन लो खुदा के वास्ते अपने गदा की अ़र्ज़

Sun Lo Khuda Ke Wastey Apne Gada Ki Arz Lyrics

 

आजिज़ नवाज़ियों पे करम है तुला हुआ
वो दिल लगा के सुनते हैं हर बे-नवा की अ़र्ज़

Aajiz Nawaziyon Pe Karam Hai Tula Hua
Wo Dil Laga Ke Sunte Hain Har Be-Nawa Ki Arz

 

कुरबान उनके नाम के बे उनके नाम के
मक़बूल होना खासे जनाबे ख़ुदा की अ़र्ज़

Kurban Unke Naam Ke, Be Unke Naam Ke
Maqbool Hona Khase Janabe Khuda Ki Arz

 

ये अ़र्ज़ है हज़ूर बड़े बे-नवा की अ़र्ज़

Ye Azr Hai Huzoor Bade Be-Nawa Ka Arz

 

ऐ बेकसों के ह़मियों यावर सिवा तेरे
किसको ग़रज़ है कौन सुने मुब्तदा की अ़र्ज़

Ae Bekason Ke Haamiyon Yawar Siwa Tere
Kisko Gharaz Hai Koun Sune Mubtada Ki Arz

 

सुन लो खुदा के वास्ते अपने गदा की अ़र्ज़

Sun Lo Khuda Ke Wastey Apne Gada Ki Arz Lyrics

 

ऐ कीमिया-ए-दिल मैं तेरे दर की ख़ाक़ हूँ
ख़ाक़-ए-दरे हुज़ूर से है कीमया की अ़र्ज़

Ae Kimiya-e-Dil Mai Tere Darr Ki Khaaq Hun
Khaaq-e-Darr-e-Huzoor Se Hai Kimiya Ki Arz

 

सुन लो खुदा के वास्ते अपने गदा की अ़र्ज़

Sun Lo Khuda Ke Waste Apne Gada Ki Arz Lyrics

 

क्यूँ तूल दूं ह़ुज़ूर ! ये दें, ये अता करें
खुद जानते हैं आप मेरे मुद्दआ की अ़र्ज़

Kyun Tool Dun Huzoor Ye Den, Ye Ata Karen
Khud Jante Hain Aap Mere Mudda’aa Ki Arz

 

दामन भरेंगें दौलत-ए-फ़ज़ल-ए-ख़ुदा से हम
ख़ाली कभी गई है हसन मुस्त़फ़ा की अ़र्ज़

Daman Bhagenge Doulat-e-Fazal-e-Fazale-Khuda Se Hum
Khali Kabhi Gaai Hai Hasan Mustafa KI Arz

 

सुन लो खुदा के वास्ते अपने गदा की अ़र्ज़

Sun Lo Khuda Ke Wastey Apne Gada Ki Arz Lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.