Zere Saaye e Gumbad Raat Ka Basera Hai Naat lyrics

 

 

Shayar:Ajmal Sultanpuri | Naat e Paak

Hindi And englsih Naat Lyrics

 

ज़ेरे साय-ए-गुम्बद रात का बसेरा है

और सुनहरी जाली से रुनुमा सवेरा है

Zere Saaye-E-Gumbad Raat Ka Basera Hai

Aur Sunhari Jaali Se Roonuma Savera Hai

 

जा बजा मदीने में हाजियों का डेरा है

मुस्तफ़ा के कूचे में साइलों का फ़ेरा है

Ja Baja Madine Me Haajiyo(N) Ka Dera Hai

Mustafa Ke Kooche Me Saa’ilo Ka Fera Hai

 

कितनी ख़ुल्द मन्ज़र है, रात भी मदीने में

हर त़रफ़ उजाला है, हर तरफ़ सवेरा है

Kitni Khuld Manzar Hai, Raat Bhi Madine Me

Har Taraf Ujala Hai, Har Taraf Savera Hai

 

रहमतों की बारिश में वो कलस का नज़्ज़ारा

रह़मतों ने गुम्बद को हर त़रफ़ से घेरा है

Rahmaton Ki Baarish Me Wo Kalas Ka Nazzara

Rahmaton Ne Gumbad Ko Har Taraf Se Ghera Hai

 

मेरी ख़ुश नसीबी पर रश्क आए रिज़वां को

मुस्तफ़ा अगर कह दें यह गुलाम मेरा है

Meri Khush Nasibi Par Rashk Aaye Rizwa(N) Ko

Mustafa Agar Kah De(N) Yeh Gulaam Mera Hai

 

नूर के समन्दर में ग़र्क़ हैं महो अन्जुम

जब से माहे तैबा ने चांदनी बिखेरा है

Noor Ke Samandar Me Gharq Hein Maho Anjum

Jab Se Maahe Taiba Ne Chandni Bikhera Hai

 

रात भी मदीने की दिन से कम नहीं अजमल

शाम भी मदीने की ख़ुशनुमा सवेरा है

Raat Bhi Madine Ki Din Se Kam Nahi Ajmal

Shaam Bhi Madine Ki Khushnuma Savera Hai

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.