Gosha e Tanhai Lyrics

 

 

Darad Se,Yaadon Se, Ashqon Se shana-Saayi Hai
Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Khar To Khar Hain Kuch Gul Bhi Khafa Hain Mujhse
Maine Kaanton Se Ulajhne Ki Saza Paai Hai

Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Darad Se,Yaadon Se, Ashqon Se shana Saayi Hai
Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Mere Peechhe To Hai Har Aan Ye Khalqat Ka Wajood
Ab Khuda Jane Ke Ye Izzat Hai Ke Ruswaayi Hai

Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Darad Se,Yaadon Se, Ashqon Se shana Saayi Hai
Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Haath Neki Se Tahi Sar Pe Gunahon Ke Pahad
Sab Sahi Dil Ye Magar Tera Hee Shaidaai Hai

Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Darad Se,Yaadon Se, Ashqon Se shana Saayi Hai
Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Foonk Kar Sari Tamannaon Ke Daftar Ye Dil
Ab To Bas Teri Tamanna Ka Tamannai Hai

Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Darad Se,Yaadon Se, Ashqon Se shana Saayi Hai
Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Unka Deedar Taqi Kaisa Qayamat Hoga
Jab Faqat Unke Tasawwur Me Ye Raanai Hai

Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

Darad Se,Yaadon Se, Ashqon Se shana Saayi Hai
Kitna Aabad Mera Gosha e Tanhaai Hai

 

दर्द से, यादों से, अश्क़ों से शना- साई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

खार तो खार हैं कुछ गुल भी खफ़ा हैं मुझसे
मैंने कांटों से उलझने की सजा पाई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

दर्द से, यादों से, अश्क़ों से शना- साई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

मेरे पीछे तो है हर आन ये ख़लक़त का वुजूद
अब ख़ुदा जाने के ये इज़्ज़त है के रुसवाई
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

दर्द से, यादों से, अश्क़ों से शना- साई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

हाथ नेकी से तही सर पे गुनाहों का पहाड़
सब सही दिल ये मगर तेरा ही शैदाई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

दर्द से, यादों से, अश्क़ों से शना- साई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

फ़ूंक कर सारी तमन्नाओं के दफ़तर ये दिल
अब तो बस तेरी तमन्ना का तमन्नाई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

दर्द से, यादों से, अश्क़ों से शना- साई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

उनका दीदार तक़ी कैसे क़यामत होगा
जब फ़क़त उनके तसव्वुर में ये रानाई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई है

 

दर्द से, यादों से, अश्क़ों से शना- साई है
कितना आबाद मेरा गोशा-ए-तन्हाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.