Janaza Jiska Rakkha Hai Wo Hi Aaya Imamat Ko Lyrics

 

Khula Rakhta Hun Main

Athon (8) Pahar Is Dil Ka Kashana !!

Madine Ki Hawaon Tum

Karam Mujhpe Bhi Farmana !!

 

Janaza Jiska Rakkha Hai

Wo Hi Aaya Imamat Ko !!

Fana Kya Hai, Baqa Kya Hai

Yehi Maqsad Tha Samjhana !!

 

Raza Ne Daulat-E-Makkiya

Likkha aath (8) Ghante Me !!

Koi Aisa Agar Ho To

Mujhe Dikhlao Maulana !!

 

Ho Chahen Jaisa Jadugar

Ilaaka Chhor Deta Hai !!

Guzarta Jis Gali Se Hai

Mere Khwaja Ka Deewana !!

 

Mere Khwaja Ne Nabbe Lakh Ko

Kalma Padhaaya Hai !!

Zamana Is Liye To Aaj Hai

Khwaja Ka Mastana !!

 

Ae Faizi Haasidi Maane

Ya Na Maane Yehi Sach Hai !!

Arab Walon Ne Bhi

Akhtar Raza Ko Peer Hai Mana !!

 

Shayar : Habibullah Faizi

Naat Khwan: Habibullah Faizi

 

Janaza Jiska Rakkha Hai habibullah faizi
Janaza Jiska Rakkha Hai Wo Hi Aaya Imamat Ko Lyrics

खुला रखता हूं मैं आठों पहर इस दिल का काशाना

मदीने की हवाओं तुम करम मुझ पर भी फ़रमाना

 

जनाज़ा जिसका रक्खा है वो ही आया इमामत को

फ़ना क्या है बक़ा क्या है यही मक़सद था समझाना

 

रज़ा ने दौलत-ए-मक्किया लिखा 8 घंटे में

कोई ऐसा अगर हो तो मुझे दिखलाओ मौलाना

 

हो चाहें जैसा जादूगर इलाका छोड़ देता है

गुज़रता जिस गली से है मेरे ख्वाजा का दीवाना

 

मेरे ख्वाजा ने नब्बे लाख को कलमा पढ़ाया है

ज़माना इसलिए तो आज है ख्वाजा का मस्ताना

 

ऐ फ़ैज़ी हासदी मानें या ना मानें यही सच है

अरब वालों ने भी अख़्तर रज़ा को पीर माना है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.