Mera Baadshah Husain Hai Hindi Lyrics

मौला मौला मौला मौला
मौला मौला मौला मौला

अली का ज़ेब-ओ-ज़ैन ज़िंदा है
फ़ातिमा के दिल का चैन ज़िंदा है
न पूछो वक़्त की इन बे-ज़ुबाँ किताबों से
जब सुनो अज़ान तो समझो हुसैन ज़िंदा है

दीन को बचाने वाला कौन है ? हुसैन है
वादे को निभाने वाला कौन है ? हुसैन है
राह-ए-हक़ में सर कटाने के लिए
कर्बला में जाने वाला कौन है ? हुसैन है

ये बात किस कदर हसीं
जो कह गए मोईनुद्दीं
दीन की पनाह हुसैन है

मेरा हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है

सिद्दीक़ के प्यारे, हुसैन
फ़ारूक़ के प्यारे, हुसैन
उस्मान के प्यारे, हुसैन
मुर्तज़ा की शान है हुसैन
फ़ातिमा का चाँद है हुसैन

अमन का मेहरोमाह भी
जो शाहों का है शाह भी
ऐसा बादशाह हुसैन है

मेरा हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है

हसन का पहला हम-सफ़र
अली का दूसरा पिसर
इमाम तीसरा हुसैन है

ये हो चुका है फ़ैसला
न कोई दूसरा हसन
न कोई दूसरा हुसैन है

मेरा हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है

न वास्ते में तोड़ है
न रास्ते में मोड़ है
ऐसी सीधी राह हुसैन है

क़ुबूल होगी हर दुआ

ऐ लख़्त-ए-दिल-ए-ज़हरा ! तुम हश्र के मैदां में
हम इसियाँ-शि’आरों को दामन में छुपा लेना

क़ुबूल होगी हर दुआ
किसी से क्यूं डरे भला
हमारा वास्ता हुसैन है

मेरा हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है

ये दिल भी हुसैनी है, ये जाँ भी हुसैनी है
सद-शुक्र के अपना तो ईमाँ भी हुसैनी है

कोई माने ना माने ! अपना तो अक़ीदा है
हर क़ारी के होंठों पर क़ुरआन हुसैनी है

जिब्रील झुलाता है हसनैन के झूले को
लगता है के आक़ा का दरबान हुसैनी है

जाओगे भला कैसे ? जन्नत में यज़ीदियो !
जन्नत का दारोग़ा भी रिज़वान हुसैनी है

सवाल जब किया गया
है कौन तेरा पेशवा
तो मैंने कह दिया हुसैन है

मेरा हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है

है क़ौल-ए-पाक-ए-रसूल-ए-अकरम
हुसैन मुझ से जुदा नहीं है
जो इब्न-ए-हैदर से बुग़्ज़ रखे
हमारा वो बा-ख़ुदा नहीं है

यज़ीदियों से जो डरते हैं हम वो लोग नहीं
हुसैनी बन के कहा है हुसैन जीत गए
हुसैन कहते हुए जिन का दम निकलता है
उन्हें भी कहना पड़ा है हुसैन जीत गए
ज़लील हो के मरेंगे ये ख़ारजी कुत्ते
ये नारा इन की सज़ा है हुसैन जीत गए

अरे ओ दुश्मने-अज़ल
तू मर ज़रा क़बर में चल
पता चलेगा क्या हुसैन है

मेरा हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है
मेरा बादशाह हुसैन है

नातख्वां:
शब्बीर बरकाती, महमूद रज़ा क़ादरी, ज़ीशान बरकाती, हस्सान रज़ा क़ादरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.